Table of Contents

1. बाइक ऑटो पार्ट्स बिजनेस के लिए सही लोकेशन तलाश करनाः-

Auto parts की दुकान खोलने से पहले -आपको दुकान के लिए एक अच्छी सी लोकेशन तलाश कर लेनी चाहिए | क्योंकि यह बिजनेस मुख्य रूप से लोकेशन पर ही निर्भर करता है

अगर आपकी दुकान का लोकेशन अच्छा है |जहां पर आप की दुकान है वहां से  कोई सड़क निकली है,या फिर कोई मार्केट है- या फिर ऑटो पार्ट्स की एक मार्केट है  | ऐसी जगह पर आप दुकान खोलते हैं  \ तो आप जल्दी सफल हो जाते हैं \क्योंकि ऐसी जगह पर अक्सर कस्टमर आते जाते रहते हैं,

जहां पर कस्टमर हमेशा आएगा ,वहां पर चाहे नई दुकान हो, दुकान को सफल होने के ज्यादा चांस होते हैं |

इसलिए अगर आप ऑटो पार्ट्स की दुकान खोलना चाह रहे हैं, तो एक सही लोकेशन की तलाश करें, चाहे आपको थोड़ा टाइम ज्यादा लग जाए, पर जहां पर आप दुकान खोलें, उसके आसपास कोई सड़क हो, जो चलती हो उससे लोग निकलते हो, अगर उनकी बाइक खराब होगी, तो वह निश्चित ही आपके पास आएंगे, और आपके पास ही गाड़ी रिपेयरिंग कराएंगे |

2. बाइक ऑटो पार्ट्स बिजनेस के लिए मैकेनिक तलाश करना.-

Auto parts business | ऑटो पार्ट्स बिजनेस कैसे शुरू करें – इसके लिए अच्छे से मैकेनिका होना बहुत जरूरी है ,अगर आप की दुकान पर एक अच्छा मैकेनिक है, जिसको बाइक रिपेयरिंग का संपूर्ण काम आता है ,तो आप सफल होंगे ,लेकिन अगर आपने बाइक मैकेनिक का इंतजाम सही से नहीं किया, तब आप परेशान हो सकते हैं |

क्योंकि जब भी आपके पास कोई कस्टमर आएगा, और उसकी बाइक में कोई प्रॉब्लम है , उसको वह मैकेनिक सही नहीं कर पाएगा , तब वह दोबारा आपकी शॉप पर नहीं आएगा  |यानी कि आपको एक ऐसा मैकेनिक चाहिए, जो बाइक का संपूर्ण कार्य जानता हूं,

अगर ऐसा नहीं हुआ, तो आप को नुकसान हो सकता है ,और कुछ समय बाद आपको दुकान बंद करनी पड़ सकती है|क्योंकि दुकान पूर्ण रूप से मैकेनिक पर निर्भर है, इसलिए जब भी आप दुकान खोले तो शुरू से ही एक अच्छे से मैकेनिक से बात कर ले ,और उसको अपनी दुकान पर कैसे रखना है. यह पहले से बात कर ले .|

कुछ मैकेनिक महीने की सैलरी पर आपके यहां रह सकते हैं ,और कुछ मैकेनिक आपके यहां जो सर्विस आएगी ,उस सर्विस का चार्ज वह अपने पास रखेगा .| यह आपको पहले जानकारी ले लेनी है कि आपका मैकेनिक आपके पास किस प्रकार से रहेगा |

3. Auto parts business के लिए फर्नीचर तैयार करना- 

बाइक ऑटो पार्ट्स बिजनेसकी दुकान के लिए फर्नीचर एक अहम भूमिका निभाता है, अगर आप ऑटो पार्ट्स की दुकान खोल रहे हैं, तब आपको पास रखने के लिए छोटे-छोटे बॉक्स चाहिए होंगे, और साथ ही उन बॉक्स को रखने के लिए एक फर्नीचर तैयार करना होगा |


आप चाहे तो लकड़ी का फर्नीचर भी तैयार कर सकते हैं, और साथ ही अगर आप मार्केट से रेडीमेड फर्नीचर भी खरीद सकते हैं , इसमें आपको लोहे से निर्मित रैक तैयार मिलती है, आप उसको भी मार्केट से खरीद कर जल्द ही अपना फर्नीचर तैयार कर सकते हैं

दुकान में लगा सकते हैं, लेकिन अगर आप अपनी दुकान को परमानेंट  बनाए रखना चाहते हैं, तब आप लकड़ी का ही फर्नीचर बनाएं, क्योंकि उसको आप अपने हिसाब से  तैयार कर सकते |

अगर आप का फर्नीचर अच्छी तरीके से दुकान में सेट है, तो दुकान का लुक भी अच्छा लगता है ,कस्टमर जब भी आपकी दुकान पर आता है, और आपकी दुकान का लुक अच्छा लगता है, साथ में उसको प्रत्येक सामान भी मिलता है जो उसको आवश्यकता है, तो वह बार-बार आपकी दुकान पर आएगा और आपसे जो भी सामान कि उसे आवश्यकता है खरीदेगा
  |

4. Auto parts business दुकान के लिए आवश्यक रजिस्ट्रेशन कराना-

 auto parts की दुकान खोलने के लिए आपको जीएसटी लेना अनिवार्य है , क्योंकि जब आप कोई भी सामान बाहर से मंगाते हैं , तो आप बगैर जीएसटी के माल नहीं मंगा सकते  | इसलिए अगर आप ऑटो पार्ट्स का बिजनेस शुरू करना चाह रहे हैं, तो आपको जीएसटी भी लेनी चाहिए, और

अगर आप जीएसटी लेते हैं, उसके बाद में आप को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं आती है \ऑटो पार्ट्स में जीएसटी 28 परसेंट होती है, आप जब भी दुकान के लिए सामान मंगाए, तब जीएसटी पर ही मंगाए ,

क्योंकि अगर आपके सामान में कोई परेशानी आ रही है या फिर रिप्लेसमेंट करना है, बदलना है तब आपको बिल की आवश्यकता होती है, और अगर आपके पास पक्का बिरयानी की जीएसटी है ,तो आपको किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं आएगी, साथ ही अगर आप किसी को माल दे रहे हैं ,और उसको भी आप पक्का बिल दे सकते हैं, अगर आपके पास जीएसटी है  |

5. how to buy auto parts बाइक ऑटो पार्ट्स बिजनेस- 

दुकान के लिए आपको पार्ट्स खरीदने हैं ,अब सबसे बड़ी समस्या यही होती है, कि हम ऑटो  auto parts कहां से खरीदेंगे ,यह आपको पहले से डिसाइड करना होता है, कि आप पार्ट्स कहां से  खरीदेंगे |

बाइक ऑटो पार्ट्स आपको हमेशा अपने पास की लोकल मार्केट से ही खरीदना चाहिए, हर क्षेत्र में कोई ना कोई होलसेल मार्केट अवश्य होती है  |आपको अपने क्षेत्र की होलसेल मार्केट की जानकारी लेनी चाहिए, और उस मार्केट में जाकर ऑटो पार्ट्स खरीदना चाहिए |

6. कौन सी मार्केट से AUTO PARTS खरीदें

जब तक आप को पार्ट्स की संपूर्ण जानकारी ना हो ,तब तक आप दिल्ली जैसी पड़ी मार्केट में ना जाए. क्योंकि जब आप बड़ी मार्केट में जाते हैं, वहां पर आपको जो भी सामान खरीदना होता है, वह होलसेल  quantity में ही खरीदना होता है ,जबकि आप लोकल मार्केट में 5 या 10 पीस भी खरीद सकते हैं, जब आप किसी मार्केट में जाते हैं, और क्वांटिटी से माल खरीदते हैं. |

अब आपको बहुत सारी ऐसे पार्ट्स भी दुकानदार दे देता है, जो मार्केट में नहीं दिखते हैं या फिर  जो बाइक बंद हो चुकी है ,उनके पास भी आपको दे देते हैं तब आप उन पार्ट्स को कभी भी सेल नहीं कर पाते  |और आपका पैसा फस जाता है ,इसीलिए जब भी आप बिजनेस शुरू करें

,उससे पहले पार्ट्स की संपूर्ण जानकारी ले लेनी है, लेकिन अगर आप पहले से जानकारी नहीं ले रहे हैं ,और दुकान शुरू कर रहे हैं ,तब आप शुरू में अपने पास की लोकल मार्केट जो की होलसेल मार्केट है ,वहां से पार्ट्स  खरीद  सकते हैं \

7. AUTO PARTS कहां से खरीदें

Auto parts business | बाइक ऑटो पार्ट्स बिजनेस कैसे शुरू करें- दुकान खोलने के लिए सबसे बड़ा सवाल यही होता है, कि हम दुकान खोलते समय हमें दुकान में कौन से पार्ट्स रखने चाहिए ,ओरिजिनल रखने चाहिए या फिर लोकल पार्ट्स रखना चाहिए |

क्योंकि ओरिजिनल पार्ट्स में हमको ज्यादा प्रॉफिट नहीं होता है ,और लोकल पार्ट्स ज्यादा समय तक चलते नहीं है |अगर आप दुकान खोल रहे हैं, और आपको ज्यादा जानकारी नहीं है, तब आपको शुरू में ओरिजिनल पार्ट्स ही रखना चाहिए  |

क्योंकि ओरिजिनल  auto parts में आपको प्रॉफिट तो कम होगा पर आपका कस्टमर वेट ज्यादा बनेगा  |अगर एक बार कस्टमर आप से संतुष्ट हो गया कुछ हो गया ,तो वह आपके पास बार-बार आएगा ,और जब एक कस्टमर बार-बार आएगा | तो साथ में अपने दोस्तों को भी लाएगा उनको भी बताएगा, कि आप की दुकान पर अच्छा   पार्ट्स मिलता है  |

8. लोकल AUTO PARTS रखने के नुकसान

लोकल पार्ट्स रखने पर आपको फायदा ज्यादा मिलेगा ,पर दुकान पर कस्टमर धीरे-धीरे कम होने लगेंगे  \क्योंकि उनको वह parts नहीं मिल रहा जिसका वह आपको पैसा दे रहे हैं, लोकल पार्ट्स कुछ ही समय बाद काम करना बंद कर देता है | और कस्टमर परेशान होता है ,

और फिर दोबारा वह आपकी दुकान पर ना आकर, पास की किसी दूसरी दुकान पर जाता है  |या फिर किसी ऐसी जगह पर पार्ट खरीदना है ,जहां पर उसको भरोसा होता है, कि यहां पर वह पास ओरिजिनल मिलेगा  |

याद रखें की इंजन से संबंधित जितने भी पार्ट्स  हैं वह ओरिजिनल हो  और बाहर लगने वाले कोई भी पाठ से जिनको आप आसानी से रिप्लेसमेंट कर सके वह आप चाहे किसी भी लोकल कंपनी का रख सकते हैं और कस्टमर को दे सकते हैं